अमेरिका ने WHO से सारे संबंध खत्म करने की घोषणा की !

अमेरिका द्वारा WHO  की फंडिंग पहले ही बंद करी जा चुकी है राष्ट्रपति ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को चीन की कठपुतली बताया l वहीं ट्रंप ने आरोप लगाया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन या WHO  कोरोना वायरस को रोकने में असफल रहा है l

शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रंप ने पत्रकारों से कहा कि हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन से व्यापक सुधार का अनुरोध किया था वह नाकाम रहे जिस वजह से नाता तोड़ रहे हैं और अमेरिका इस फंड को पब्लिक हेल्थ में लगाएगा WHO पूरी तरह से चीन के नियंत्रण में है जबकि चीन बहुत मामूली फंड देता है l

ट्रंप ने पिछले महीने WHO 30 दिनों में पोस्ट सुधार लाने को कहा और अपनी चीन परस्ती छोड़ने को कहा की WHO की गलती की सजा पूरा विश्व भुगत रहा है l और उस पर चीन के साथ मिलकर पूरे विश्व को गुमराह करने का आरोप लगाया है l चेन्नई इस वैश्विक महामारी की शुरुआत की और अमेरिका अब तक अपने 1 लाख लोगों की जान गवा चुका है पूरी दुनिया चीन की वजह से भुगत रही हैं l

ट्रंप ने कहा चीन प्रतिवर्ष महज 4 करोड डॉलर का फंड विश्व स्वास्थ्य संगठन को देता है परंतु अमेरिका 45 करोड़ डॉलर का फंड देता है l फिर भी चाइना का उस पर ज्यादा नियंत्रण है ट्रंप ने कहा कि हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन करने का मौका दिया परंतु उन्होंने ऐसा नहीं किया l

इसके अलावा ट्रंप नेम संयुक्त राष्ट्र पर भी आरोप लगाए हैं गौरतलब है कि ट्रंप जब से राष्ट्रपति बने हैं तब से अमेरिका फर्स्ट की नीति अपना कर चल रहे हैं ट्रंप सत्ता में आने के बाद संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद को अमेरिका से अलग कर चुके हैं l और यूनेस्को से अमेरिका को अलग कर चुके हैं l इसके अलावा ट्रंप ईरान से परमाणु समझौता खत्म करना जैसा फैसला ले चुके हैं l

 

Leave a Comment